तीन कुत्ते

तीन कुत्ते धूप खाते हुए बातें करते जाते थे ।

पहले कुत्ते ने मानो स्वप्न देखते हुए कहा, “वास्तव में यह बड़े आनन्द की बात है कि हम इस ‘श्वानयुग’ में पैदा हुए हैं। भला, सोचो तो सही,कितनी सहूलियत से हम लोग जल,थल और आकाश की यात्रा करते हैं। देखो न, हमारे आराम के लिए, यहां तक कि हमारी आंख,कान,नासिका के सुख के लिए, कैसे-कैसे आविष्कार हुए हैं।”

तब दूसरा कुत्ता बोला, “अजी, इतना ही नहीं ,कला के प्रति भी हमारा झुकाव हुआ है। चंद्रमा को देखकर हम लोग अपने पूर्वजों की अपेक्षा अधिक ताल-स्वर से भौंकते हैं। जब हम पानी में अपना प्रतिबिम्ब देखते हैं तो हमें अपना चेहरा पूर्वकाल की अपेक्षा अधिक सुघड़ नज़र आता है।”

तब तीसरे कुत्ते ने कहा, “सबसे अधिक आश्चर्यजनक बात तो यह है कि इस श्वानयुग में कितना सुस्थिर विचार-साम्य है।”

इसी समय उन्होंने देखा कि कुत्ता पकड़नेवाला चला आ रहा है।

तीनों कुत्ते छलांग मारते हुए गली में भागे। भागते-भागते तीसरे कुत्ते ने कहा, “प्राण बचाना चाहते हो तो जल्दी भागो, सभ्यता हमारे पीछे पड़ी हुई है।”

 

—   खलील जिब्रान

 

*****

पुस्तक ‘दि वान्डरर’ के हिंदी अनुवाद ‘बटोही’ से साभार

प्रकाशक : सस्ता साहित्य मंडल,नई दिल्ली

Advertisements

8 Responses to “तीन कुत्ते”

  1. yunus Says:

    अति सुंदर और सामयिक

  2. ज्ञानदत्त पाण्डेय Says:

    सभ्य और बुद्धिमान; सभ्यता से आतंकित। 🙂

  3. मनीष Says:

    मैं सभ्यता वाली बात समझ नहीं पाया। थोड़ा मेरी अज्ञानता से पर्दा उठाएँ।

  4. अफ़लातून Says:

    वाह !

  5. mehhekk Says:

    bahut khubsurat lekh

  6. अनिल रघुराज Says:

    श्वान-कथा पढ़कर आसपास देखने को, सोचने को मजबूर हुआ। शुक्रिया…

  7. BHIMSHI KANDORIYA Says:

    JAISE MANO KAHTE HAIKI HAMNE SABYA BANKE KUCH NAHI PAYA VIKAS KI HAMARI CHAHAT HAME AK MEK SE ALAG KARDIYA OR KUDRAT KE DUSRE JIVO KOBHI HAM SABYATA KE NAM PAR JINE NAHI DETE YAHI HAMARA VIKASHAI? ADMI KO APNE APKE BAREME OR APNE
    KARMO KE BAREME SOCHNA CAHIA.

  8. ARUN Says:

    very good dear aap to dil win kar liya

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: