कोलकाता का हिंदी रंगमंच – 4

 1976 में रंगकर्मी ने कोलकाता के नाट्य परिदृश्य में ‘एंट्री’ ली और सबसे सक्रिय नाट्यदल के रूप में उभरकर आया । पिछले पच्चीस वर्षों में उषा गांगुली जैसे समर्पित रंग व्यक्तित्व और संगठनकर्ता के नेतृत्व में ‘महाभोज’, ‘लोक कथा’, ‘होली’, ‘वामा’, ‘कोर्ट मार्शल’, ‘रूदाली’, ‘खोज’ व ‘बेटी आई’ के प्रदर्शन के साथ यह राष्ट्रीय स्तर पर एक महत्वपूर्ण नाट्य दल के रूप में सराहा जाता है ।

‘हिम्मत माई’ व ‘शोभा यात्रा’ के मंचन के पश्चात उषा गांगुली ने न केवल एक समर्थ अभिनेत्री और सफल निर्देशक के रूप में वरन विशिष्ट नाट्य समालोचक एवं व्याख्याकार के रूप में भी अपने को स्थापित किया है । उषा गांगुली ने हिन्दी रंगमंच को अधिक जनोन्मुख तो बनाया ही, साथ ही बांग्ला रंगमंच की गौरवशाली परंपरा से गहरे जुड़े बांग्लाभाषी दर्शकों के बीच भी हिन्दी नाटकों को प्रतिष्ठा प्रदान की । अभी हाल ही में काशीनाथ सिंह की सुप्रसिद्ध रचना पर ‘काशीनामा’ और मंटो की कहानियों पर आधारित तीन नाटकों की श्रंखला के सफल मंचन द्वारा उन्होंने अपनी निर्देशकीय क्षमता को प्रदर्शित किया है ।  

कोलकाता की एक शताब्दी से चली आ रही हिन्दी रंग परंपरा के ध्वजवाहक के रूप में लगभग एक दर्जन नाट्य दल अपनी सक्रियता से इसे पुष्ट कर रहे हैं । महेश जायसवाल ने अपने नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से हिन्दीभाषी समाज को जन संस्कृति के वृहत्तर सरोकारों से जोड़ा है । विपरीत परिस्थितियों में भी प्रताप जायसवाल ने न केवल अपनी टोली ‘अभिनय’ को बचाए रखा, बल्कि ‘मिस्टर अभिमन्यु’,   ‘रावणलीला’ व ‘दुस्समय’ जैसी कई नाट्य प्रस्तु्तियों के माध्यम से हस्तक्षेप जारी रखा । स्पंदन, लिटिल थैस्पीयन, रंगकृति, प्रयास, कला सृजन अकादमी, नीलांबरकलाकार जैसी रंग संस्थाएं लगातार अपनी उपस्थिति का अहसास कराती रही हैं ।  

 सामूहिकता और सृजनात्मकता के लिए यह कठिन समय है । नाटक की तो संरचना ही सामूहिकता और सृजनात्मकता के पायों पर टिकी है । नाटक के होने का अर्थ है एकांतिकता और बंजरपन का न होना । एक समर्थ नाट्य आंदोलन जीवंत और गतिशील समाज की पहचान है ।

जिस भाषा में श्यामानंद जालान, प्रतिभा अग्रवाल और उषा गांगुली जैसे तपे हुए नाट्य व्यक्तित्व सक्रिय हों,जिसमें नाट्य शोध संस्थान जैसी अद्वितीय संस्था का अस्तित्व हो, जिसमें आज भी संसाधनों के अभाव के बावजूद  सामूहिकता के बल पर नाटकों का मंचन संभव हो तो गैरजरूरी हताशा का कोई कारण दिखाई नहीं देता ।

***************** 

                                                                              ( समाप्त)

Advertisements

2 Responses to “कोलकाता का हिंदी रंगमंच – 4”

  1. kakesh Says:

    “प्रताप भैया” भी आ गये ..”प्रयास” भी आ गया.. “रावणलीला” भी आ गया .. लगभग सभी कुछ आ ही गया .. मैं सोच रहा था कि मेरे गुरु डा. शिव मूरत सिंह भी आयेंगे पर नहीं आये ..वैसे भी वो अपना नाम कहीं पर आना पसंद नही करते… लेकिन मैं थोड़ा बता ही दूं क्योकि ये अंतिम किस्त है… गुरु जी अपनी नाट्य संस्था “माध्यम” गाजीपुर से चलाते हैं .. लेकिन कलकत्ता रंगमंच से काफी जुड़े रहे. संगीत कला मंदिर वाले मिश्रा जी उन्हे बहुत मानते थे. .. उन्होने अंधायुग ,स्कन्दगुप्त आदि का निर्देशन किया ..गोदान से भी वो जुड़े थे..उनकी नाट्य पुस्तकें हैं पूर्वार्ध , गांधारी, पुरुष पुराण , टोपी शुक्ला ( नाट्य रुपांतर) , खुला आकाश , जनमेजय का नाग यज्ञ आदि. हैं .. वर्तमान में गाजीपुर से रंगप्रमा नामक पत्रिका प्रकाशित करते हैं… इतनी अच्छी श्रंखला के लिये धन्यवाद .

  2. ज्ञानदत्त पाण्डेय Says:

    रंगमंच की दुनिया का तिलस्म सत्तर के दशक में था. तब छात्र थे और नाटक के मंचन देखने में बड़ा मन लगता था. कितनी अच्छी चीजें समय के साथ बिला जाती हैं!
    आपकी पोस्ट पढ़ कर इतना हुआ है कि हमने अपने एक सुपरवाइजर को खोजा है जो स्वयं व उनके पिता रंगमंच से जुड़े है. वे जरूर मुझे इस दुनिया के दर्शन करायेंगे.
    आपकी पोस्टों ने इस विधा का स्मरण करा कर मेरा भला किया है.
    धन्यवाद.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: